Sunday, 6 September 2020

Khatu Ka Raja Mehar Karo | खाटू का राजा मेहेर करो Bhajan Lyrics

Khatu Ka Raja Mehar Karo |  खाटू का राजा मेहेर करो

तांसु बीनती करा हा बारंबार

सुनो जी सरकार, ख़ातु का राजा मेहेर करो,
मेहेर करो जी अब तो देर करो ना थे देर करो,
तांसु बीनती करा हा बारंबार,
सुनो जी सरकार, ख़ातु का राजा मेहेर करो,

था बिन नाथ अनाथ की जी, कुन्न रखे लो टेक,
म्हस्सा थके मोकला जी, तसा तो म्हारे थे ही, एक,
ख़ातु का राजा मेहेर करो,
तांसु बीनती करा हा बारंबार,
सुनो जी सरकार, ख़ातु का राजा मेहेर करो,


जानू हू दरबार ँहे तारे, घनी लगी है भीर,
तारे बिन किस विढ़ मई तेल गयी,
भूल भगत की या पीर,
ख़ातु का राजा मेहेर करो,
तांसु बीनती करा हा बारंबार,
सुनो जी सरकार, ख़ातु का राजा मेहेर करो,

जूजु बीते टेम इते जो जी, च्छुत्ो जावे भीर,
उजलो आवे कलजो जी, उजलो आवे कलजो जी,
नैना सू ताप टपके नीर,
ख़ातु का राजा मेहेर करो,
तांसु बीनती करा हा बारंबार,
सुनो जी सरकार, ख़ातु का राजा मेहेर करो,

साथी म्हारे जिव्ह का थे तसे च्चणी ना,
जानबूझ के मत तरसाओ, जानबूझ के मत तरसाओ,
हिवादे से लेव लिपताए,
ख़ातु का राजा मेहेर करो,
तांसु बीनती करा हा बारंबार,
सुनो जी सरकार, ख़ातु का राजा मेहेर करो,

की लज्जा रखी, गाज को कथोकांत,
सुन्न कर टर देर मत किजो,
श्याम बिहारी ब्रिजचंद,
ख़ातु का राजा मेहेर करो,
तांसु बीनती करा हा बारंबार,
सुनो जी सरकार, ख़ातु का राजा मेहेर करो,

तांसु बिनारती करा हा बारंबार,
सुनो जी सरकार, ख़ातु का राजा मेहेर करो,

मेहेर करो जी अब तो देर करो ना थे देर करो,

Song : Khatu Ka Raja Mehar Karo |  ख़ातु का राजा मेहेर करो

Saturday, 15 August 2020

Chali Shiv Shambhu Ki Barat | चली शिव शम्भू की बारात Bhajan Lyrics

               चली शिव शम्भू की बारात


चली शिव शम्भु की बरात है ग्यारा लाख बाराती साथ,

बाँध लिया सर्पो का सेहरा अंग भभूती शिव ने रमा ली 
लगा लिया नंदी पे आसन भंग की झोली संग लटका ली 
पार्वती से व्याह रचाने चले है भोले नाथ,
चली शिव शम्भु की बरात है ग्यारा लाख बाराती साथ,

वेद मन्त्र पड़ते है भरमा शिव शिव गाये माँ ब्रह्मानी 
चवर झुलाए श्री नारायण देख के शिव जाए बलिहारी 
लक्ष्मी मैया ने लक्ष्मी की शिव पे करी बरसात 
चली शिव शम्भु की बरात है ग्यारा लाख बाराती साथ,

सरस्वती की वीणा बाजी 
मंगल काल करे पुरवाई 
देव लोक है दे रहा शिव शम्भु को आज वधाई 
दिन से भी ज्यदा उजली है देखो आज की रात 
चली शिव शम्भु की बरात है ग्यारा लाख बाराती साथ,

भोले के चेलो की टोली हर हर हर महादेव है बोली 
आगे आगे देवता सारे पीछे भूतो की रंगोली 
दास पवन मुस्काये देख के डमरू शिव के हाथ 
चली शिव शम्भु की बरात है ग्यारा लाख बाराती साथ,

Song: Chali Shiv Shambhu Ki Barat | चली शिव शम्भू की बारात Bhajan Lyrics


Friday, 14 August 2020

Gokul me Dekho Vrindavan Mein Dekho Radha Nache re | गोकुल में देखो वृन्दावन में देखो मुरली बाजे रे श्याम संग राधा नाचे रे,

Gokul me Dekho Vrindavan Mein Dekho Radha Nache re | गोकुल में देखो वृन्दावन में देखो मुरली बाजे रे श्याम संग राधा नाचे रे

गोकुल में देखो वृंदावन में देखो मुरली वाजे रे,

श्याम संग राधा नाचे रे 


छम छम नाचे राधा रानी 

सुन के मीठी मुरलियां 

श्याम छवि में सब बलिहारी ग्वाल वाल और गईया,

सरस सरस चले रे बदरी पुरवैयाँ,

मेगहा बरसे रे श्याम संग राधा नाचे रे,


बंसी बट पर यमुना तट पर कान्हा रास रचाए,

गोपी बन कर शंकर आये गोपेश्वर कहलाये 

डम डम डमरू बाजे कान्हा की मुरली पे 

सब जग नाचे रे श्याम संग राधा नाचे रे,


चंदर किरण सा श्याम सलोना दो आँखे कजरारी 

ठुमक ठुमक नाचे गोपियाँ के संग जग का पालन हारी 

रास बिहारी संग राधा कुमारी संग ब्रिज में बिराजे रे,

गोकुल में देखो वृंदावन में देखो मुरली वाजे रे,


Song: Gokul me Dekho Vrindavan Mein Dekho Radha Nache re | गोकुल में देखो वृन्दावन में देखो मुरली बाजे रे श्याम संग राधा नाचे रे


Jiske Jap Tap Se Milta Hai Tan Man Ko Aaram | जिसके जप तप से मिलता है तन मन को आराम Bhajan Lyrics

Jiske Jap Tap Se Milta Hai Tan Man Ko Aaram | जिसके जप तप से मिलता है तन मन को आराम Bhajan Lyrics

जिस के जप तप से मिलता है तन मन को आराम,

वो राधा का श्याम वो मीरा का घनश्याम,


सारे जग का इक खिवैइया सब का पार लगिया,

मीरा का घनश्याम कहे कोई राधा का वो कन्हियाँ 

सब के मन को शीतल करता वो प्यारा सा नाम 

वो राधा का श्याम वो मीरा का घनश्याम,


राधा का वो रास रचियाँ मीरा के करुना कर 

धन्ये किया मीरा को प्रभु ने अपना दर्श दिखा कर,

अमर हुए है भक्त प्रभु के करे जो ऐसा काम 

वो राधा का श्याम वो मीरा का घनश्याम,


राधे श्याम की मूरत जग में लगती बड़ी सुहानी 

मीरा जैसे भगती रंग में डुभे जो भी प्राणी 

तन मन धन से रहे समर्पित प्रभु में आठो याम 

वो राधा का श्याम वो मीरा का घनश्याम,

Song : Jiske Jap Tap Se Milta Hai Tan Man Ko Aaram | जिसके जप तप से मिलता है तन मन को आराम Bhajan Lyrics


Itna to Krna Swami Jab Pran Tan Se Nikle | इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

Itna to Krna Swami Jab Pran Tan Se Nikle | इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,

गोविन्द नाम लेकर फिर प्राण तन से निकले 

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,


श्री गंगा जी का तट हो यमुना का बंसी वट हो,

मेरा संवारा निकट हो जब प्राण तन से निकले 

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,


सिर सोहना मुकट हो मुखड़े पे काली लट हो,

यही ध्याम मेरे घट हो जब प्राण तन से निकले 

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,


मेरा प्राण निकले सुख से तेरा नाम निकले मुख से,

बच जाऊ गोर दुःख से जब प्राण तन से निकले 

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,


उस वक़्त जल्दी आना मुझको न भूल ना जाना,

मुरली की धुन सुनाना जब प्राण तन से निकले 

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,


ये नेक सी अर्ज है मानो तो क्या हर्ज है 

ये दास की अर्ज है जब प्राण तन से निकले 

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले,


Song: Itna to Krna Swami Jab Pran Tan Se Nikle | इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले


Friday, 10 July 2020

Bhola Bhang Tumhari, Ghotat Ghotat Hari | भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटत-घोटत हारी

भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटत-घोटत हारी



भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटत-घोटत हारी
मुझसे न घोटी जाए
की तेरी एक दिनां की होए तो घोंटूं, रोज़ न घोंटी जाए

सुन गणपति की महतारी, घोंटो भांग हमारी
बिन भंग रहा नहीं जाए
गौरां तोकू छोड़ दऊँ भंग न छोड़ी जाए

जिस दिन से मैं ब्याही आई भाग हमारे फूटे
राम करे ऐसा हो तेरा सिल-बट्टा ही टूटे
हाँ टूटे - २

छले पड़ गए हाथों में, क्यों तरस न मोपे खाए
की तेरी एक दिनां की होए तो घोंटूं, रोज़ न घोंटी जाए
भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटात-घोटात हारी...

क्रोध में आके शिव शंकर ने खोला अपना झोला
एक निकली चरस की गोली, एक भांग का गोला
हाँ गोला - २ 

गोला, गोली खाकर बोले क्रोध में यूं फरमाए
गौरां तोकू छोड़ दऊँ भंग न छोड़ी जाए

सुन गणपति की महतारी, घोंटो भांग हमारी
बिन भंग रहा नहीं जाए
गौरां तोकू छोड़ दऊँ भंग न छोड़ी जाए

भांग चढ़ाए जो मुझपे, मैं पूरी आशा करता
मन इच्छा पूरी करके मैं उनके संकट हरता
मै हरता - २
इसी लिए वो भक्त मेरा मुझमे ही आन समाए
अरे, गौरां तोकू छोड़ दऊँ भंग न छोड़ी जाए

सुन गणपति की महतारी, घोंटो भांग हमारी
सुन भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटात-घोटात हारी

Bhajan : Bhola Bhang Tumhari, Ghotat Ghotat Hari | भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटत-घोटत हारी

Man kahayo Meri Maay | मान कहयो मेरी माय, मनै सांवरियो परणाय

मान कहयो मेरी माय, मनै सांवरियो परणाय


मान कहयो मेरी माय, मनै सांवरियो परणाय |
सांवरियो परणाय मात मेरी, सांवरियो परणाय ||

ऐसे वर को क्या वरु जो, जनम और मर जाय |
वर करीये एक सांवरो रे, अमर चूड़ो हो जाय || 
 मान कहयो मेरी  ,,,,

जहर पियालो राणो भेजियो रे, दयो मीरा ने जाय |
कर चरणामृत पी गई रे, थे जाणो रधुनाथ |।
 मान कहयो मेरी ,,,, 

सर्प पिटारो राणो भेजियो रे, दयो मीरा ने जाय |
खोल पिटारो मीरा पहरियो रे, बण गयो नौशर हार || 
 मान  कहयो मेरी ,,,,

मीरा हर की लाडली रे, राणों बन को ठूंठ |
समझायो समझ्यो नहीं रे, ले जाती बैकुंठ || 
 मान कहयो मेरी ,,,,

मीरा जन्मी मेड़ते रे, राणों गढ़ चित्तोड |
कलियुग में भगति करी रे, गुरु मिल्या रैदास || 
मान कहयो मेरी ,,,,

Bhajan : Man kahayo Meri Maay | मान कहयो मेरी माय, मनै सांवरियो परणाय