Saturday, 11 February 2017

ॐ शिव ॐ शिव रटता जा | Om Shiv Om Shiv Ratata Jaa


नम: शिवाय भजता जा

ॐ शिव ॐ शिव ॐ शिव ॐ शिव , ॐ शिव ॐ शिव रटता जा |
नम: शिवाय नम: शिवाय, नम: शिवाय भजता जा ||
शिव शंकर कैलाशपति है, अंग वभूति रमाते है |
जटाजूट में गंग बिराजै, गंगाधर को रटता जा || नम: शिवाय ||
भांग धतुरा भोग लागत है, गले सर्पो की माला रे |
नंदी की असवारी सोहे, नन्दीश्वर को रटता जा || नम: शिवाय ||
भष्मासुर को भष्म कराया, लीला अपरम्पार तेरी |
मोहिनी रूप धारयो विष्णु ने, लीलाधर को रटता जा || नम: शिवाय ||
गगन मंडल थारी महिमा गावै, गावै नर और नारी रे |
ऐसे दीनदयाल मेरे दाता, भूतनाथ को रटता जा || नम: शिवाय ||
ॐ शिव ॐ शिव ॐ शिव ॐ शिव , ॐ शिव ॐ शिव रटता जा | 
जय शंकर की....
जय श्री नाथजी की.....
बोल नाथ जी महाराज की जय हो

Song:

ॐ शिव ॐ शिव रटता जा  नम: शिवाय नम: शिवाय, नम: शिवाय भजता जा 


Om Shiv Om Shiv Ratata Jaa, Namh Shivay Namh Shivay

2 comments: