Sunday, 21 October 2018

Bhola Bhang Tumhari | भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटात-घोटात हारी


भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटात-घोटात हारी



Click Here For Youtube Channel: -  Nath Ji Bhajan


भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटात-घोटात हारी
मुझसे न घोटी जाए
की तेरी एक दिनां की होए तो घोंटूं, रोज़ न घोंटी जाए

सुन गणपति की महतारी, घोंटो भांग हमारी
बिन भंग रहा नहीं जाए
गौरां तोकू छोड़ दऊँ भंग न छोड़ी जाए

जिस दिन से मैं ब्याही आई भाग हमारे फूटे
राम करे ऐसा हो तेरा सिल-बट्टा ही टूटे
हाँ टूटे - २

छले पड़ गए हाथों में, क्यों तरस न मोपे खाए
की तेरी एक दिनां की होए तो घोंटूं, रोज़ न घोंटी जाए

भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटात-घोटात हारी...

क्रोध में आके शिव शंकर ने खोला अपना झोला
एक निकली चरस की गोली, एक भांग का गोला
हाँ गोला - २ 

गोला, गोली खाकर बोले क्रोध में यूं फरमाए
गौरां तोकू छोड़ दऊँ भंग न छोड़ी जाए

सुन गणपति की महतारी, घोंटो भांग हमारी
बिन भंग रहा नहीं जाए
गौरां तोकू छोड़ दऊँ भंग न छोड़ी जाए

भांग चढ़ाए जो मुझपे, मैं पूरी आशा करता
मन इच्छा पूरी करके मैं उनके संकट हरता
मै हरता - २
इसी लिए वो भक्त मेरा मुझमे ही आन समाए
अरे, गौरां तोकू छोड़ दऊँ भंग न छोड़ी जाए

सुन गणपति की महतारी, घोंटो भांग हमारी
सुन भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटात-घोटात हारी


Song:

Bhola Bhang Tumhari Mein Ghotat Ghotat Haari 

भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटात-घोटात हारी


2 comments:

  1. Thanks
    https://bajanlyrics.blogspot.com/?m=1

    ReplyDelete
  2. I invite you to the page where see how much we have in common. Online Headshop

    ReplyDelete